स्वाइन फ्लू की बीकानेर में दस्तक, बचाव ही इलाज…. देखें वीडियो

0
2447

बीकानेर khabarthenews.com

मौसम के बदलते रूख के साथ ही अब मौसमी बीमारियां अपना घर कर रही है। जिसके कारण चिकित्सालयों में मरीजों की लम्बी कतारें देखने को मिल रही हैै।

इस मौसम में सर्दी जुखाम बुखार के मरीज ज्यादा सामने आ रहे है। जिले में इस मौसम के साथ ही स्वाइन फ्लू ने अपने पांव पसारने शुरू कर दिया हैं। जिसके चलते अब तक जिले में तीन ओर रोगियों को स्वाइन फ्लू होने की पुष्टि हो चुकी है।

अब तक करीब आठ रोगी पीबीएम में भर्ती हो चुके हैं, जिसमें तीन बीकानेर जिले के है, जबकि दो अन्य जिलों से यहां भर्ती हुए हंै।

सीएमएचओ डॉ बीएल मीणा ने बताया कि जिले के देशनोक, नोखा के दो और खाजूवाला में एक स्वाइन फ्लू पीडि़त की पहचान हुई है, जिन्हें पीबीएम में भर्ती करवाया गया है।

मीणा ने बताया कि रविवार को खाजूवाला के 7 केडी के एक युवक को स्वाइन फ्लू पॉजिटिव पाये जाने पर पीबीएम में भर्ती करवाया गया।

मीणा ने बताया कि भर्ती रोगियों के इलाके में घर-घर सर्वे करवा कर टेमीफ्लू की दवाइयां वितरण किया गया है। स्वास्थ्य विभाग ने निजी अस्पतालों को मलेरिया, डेंगू और स्वाइन फ्लू लक्षण वाले मरीजों का डाटा देने के निर्देश दिए हैं।

सरदार पटेल मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ आरपी अग्रवाल ने बताया कि 24 घंटे के लिए पीबीएम में मेडिसिन विशेषज्ञों की टीम लगा दी गई है।

एक सहआचार्य राउण्ड द क्लॉक वार्ड में रहेगा। मास्क एवं स्वाइन फ्लू की जांच के किट पर्याप्त मात्रा में हैं। रोगियों की ज्यादा से ज्यादा स्क्रीनिंग करने के सरकार के निर्देश हैं।

उस अनुसार सर्दी-जुकाम एवं खांसी के साथ बुखार के रोगियों पर विशेष निगरानी रखी जा रही है। निमोनिया के रोगियों को संदिग्ध मान कर उन्हें स्वाइन फ्लू वार्ड में भर्ती किया जा रहा है।

1135 ने पिया स्वाइन फ्लू प्रतिरोधी काढ़ा

स्वास्थ्य विभाग के आयुष दल ने शिविर लगाकर कुल 1,135 व्यक्तियों को डेंगू-मलेरिया-स्वाइन फ्लू के प्रति रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला आयुर्वेदिक काढ़ा पिलाया। शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी डॉ. एम.ए.दाउदी ने बताया कि यह काढ़ा संक्रमण को रोकता है तथा आयुर्वेदिक होने से किसी भी तरह का साइड इफेक्ट नहीं करता। डॉ. दाउदी ने बताया कि आयुष चिकित्सकों के दल में शामिल डॉ. गजेन्द्र तंवर, डॉ. नेहा दाधीच व डॉ. संध्या शर्मा ने रानी बाजार औद्योगिक क्षेत्र की यूपीएचसी न. 7 में शिविर लगाकर 935 व्यक्तियों को व आंगनबाड़ी में 200 बच्चों को नीम-गिलोय व अन्य औषधियों से तैयार आयुर्वेदिक क्वाथ पिलाया। सीएमएचओ डॉ. बी. एल. मीणा, बीसीएमओ कोलायत डॉ. अनिल वर्मा व एपिडेमियोलोजिस्ट नीलम प्रताप सिंह ने शिविर में पहुँच कर आमजन को इसके लाभ बताए। डॉ. मीणा ने बताया कि ये काढ़ा वितरण आगामी दिनों भी विभिन्न स्थानों पर आवशयकतानुसार जारी रहेगा।

डरने की नहीं है जरूरत…

अणचा बाई डिस्पेंसरी के चिकित्सा अधिकारी डॉ. अबरार पंवार ने बताया कि स्वाइन फ्लू रोग से घबराने की आवश्यकता नहीं है, जरूरी है तो सावधानी रखने की। छींकते-खांसते वक्त रूमाल पर कपड़ा रखने से इस वाइरल रोग से बचाव हो सकता है। सर्दी, जुखाम व नाक बहने की स्थिति में तुरन्त अस्पताल में इलाज करवाएं ताकि रोग की गंभीरता न बढ़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here