निजी स्कूलों के संचालकों ने किया विरोध प्रदर्शन, निकाली वाहन रैली

2202

Bikaner / khabarthenews.com

बीकानेर। गैर सरकारी शिक्षण संस्थाओं की समस्याओं के समाधान के संबंध में मंगलवार को निदेशक माध्यमिक शिक्षा को बीकानेर के गैर सरकारी शिक्षण संस्थाओं के विभिन्न संगठनों की ओर से सामूहिक रूप से मांग पत्र गया।
गैर सरकारी शिक्षण संस्थाओं के सामाजिक सरोकार हेतु गठित संस्था प्राइवेट एज्यूकेशनल इंस्टीट्यूट्स प्रोसपैरिटी एलायंस (पैपा) के प्रदेश समन्वयक गिरिराज खैरीवाल ने बताया कि पैपा, स्कूल शिक्षा परिवार, स्वयंसेवी शिक्षण संस्था संघ और नोखा निजी विद्यालय संघ की ओर से संयुक्त रूप से ज्ञापन दिए गए।

सवा तीन बजे गांधी पार्क से दुपहिया वाहन रैली के रूप में पैपा के प्रदेश समन्वयक गिरिराज खैरीवाल की अगुवाई में सैकड़ों स्कूल संचालक नारेबाजी के साथ कचहरी होते हुए निदेशक माध्यमिक शिक्षा कार्यालय में पहुंचे। वहां विरोध प्रदर्शन करने के बाद निदेशक, माध्यमिक शिक्षा नथमल डिडेल को मांग पत्र सौंपे गए। खैरीवाल ने बताया कि दस कार्य दिवस में उचित कार्रवाई नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी गई है।

निदेशक डिडेल ने गैर सरकारी शिक्षण संस्थाओं के प्रतिनिधियों की मांगों को पूरी गंभीरता के साथ सुना और शीघ्र ही उचित समाधान का आश्वासन दिया। निदेशक प्रारंभिक शिक्षा के नाम के ज्ञापन आरटीई के सहायक निदेशक अरुण स्वामी को दिए गए। इसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी, माध्यमिक शिक्षा, बीकानेर उमाशंकर किराडू को भी मांग पत्र सौंपे गए।

खैरीवाल ने बताया कि प्रतिनिधि मंडल में पैपा के घनश्याम साध, राकेश पंवार, रमेश बालेचा, अशोक उपाध्याय, गिरिश गहलोत, अमिताभ हर्ष, रघुनाथ बेनीवाल, ओमदान चारण, स्वयंसेवी शिक्षण संस्था संघ के बीकानेर जिला अध्यक्ष कोडाराम भादू, प्रवक्ता शैलेष भादाणी, देवीलाल सारण, लेखराम गोदारा, रामलाल जाखड़, नोखा निजी विद्यालय संघ के अध्यक्ष रामस्वरूप ज्याणी, महासचिव इन्द्रसिंह भाटी, मदनलाल सियाग, महावीर गहलोत, स्कूल शिक्षा परिवार के श्रीडूंगरगढ तहसील के अध्यक्ष ओमप्रकाश स्वामी, प्यारेलाल डूकिया, मूलचंद स्वामी, बनवारी धतरवाल, स्कूल शिक्षा परिवार के कोलायत ब्लाक के प्रभारी खींयाराम सैन, राजेंद्र पालीवाल, भगूंताराम कुमावत, पांचू के घनश्याम स्वामी इत्यादि सम्मिलित थे।

अपना उत्तर दर्ज करें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.