भागवत देती है मर्यादित जीवन की सीख : पं. व्यास

2315

पंडितजी की स्मृति में भागवत कथा

Bikaner / khabarthenews.com

जीवन का चक्र चलता रहता है और परिवर्तन संसार का नियम है। हमें वैराग्य-भक्ति व सांसारिक गृहस्थ जीवन आदि सभी को मर्यादापूर्वक निभाना चाहिए। हर उम्र के साथ जीवन की शैली बदलती जाती है। भागवत कथा का यह संदेश कथा वाचक पं. पुरुषोत्तम व्यास ने भागवत कथा सप्ताह के दौरान श्रद्धालुओं के समक्ष बताया। पं. व्यास ने बताया कि भागवत ही एक ऐसा माध्यम है जिसके श्रवण से जीवन को मर्यादित करने व न्यायिक बनाने की सीख मिलती है।

आयोजक विमला देवी पारीक ने बताया कि समाजसेवी स्व. लक्ष्मीनारायण पारीक ‘पंडितजी’ की पुण्यस्मृति में वैद्य मघाराम कॉलोनी स्थित निवास स्थान पर भागवत कथा सप्ताह चल रहा है। पारीक ने बताया कि वैशाख माह में भागवत कथा श्रवण का महत्व होता है तथा पुण्यात्मा की स्मृति में ऐसे आयोजन से जन्म-मरण के बंधन से मुक्ति मिलती है। कथा का समय दोपहर 1:30 से शाम 4:00 बजे तक भागवत कथा एवं शाम 5 से 7 बजे तक भजन-कीर्तन का रहता है।

वाट्सएप पर खबरों के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करें

https://chat.whatsapp.com/BH8MzpmL4VYHcjOR46E6fo

 

अपना उत्तर दर्ज करें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.