संस्कृति जीवित रहे, विचारों की क्रान्ति जगे : टीएम लालाणी… देखें वीडियो

    2560

    विरासत संवर्द्धन संस्थान के तत्वावधान में मुशायरे का आयोजन

    बीकानेर। संस्कृति जीवित रहे, विचारों की क्रान्ति जगे और कला को मंच मिलता रहे। इन्हीं उद्गारों के साथ गंगाशहर के टीएम ऑडिटोरियम में दो अक्टूबर शाम 7:15 बजे आयोजित मुशायरे की जानकारी विरासत संवर्द्धन संस्थान अध्यक्ष टी.एम. लालाणी ने सोमवार को प्रेसवार्ता में दी।

    लालाणी ने बताया कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्म दिवस पर राष्ट्रप्रेम व आपसी सौहार्द्र के संदेशों को समर्पित दिल में पैठती हिन्दी व उर्दू भाषा की शायरी व गजलों प्रस्तुति मुशायरे में होगी। देश के ख्यातनाम शायर प्रोफेसर बसीम बरेलवी, ताहिर फराज, मुमताज नसीम, मंगल नसीम व दिनेश रघुवंशी बीकानेर पधार रहें हैं। इस मुशायरे में बीकानेर के प्रसिद्ध शायर व कवि डॉ. मोहम्मद हुसैन, गुलाम महय्युद्दीन माहिर, इरफान नोमानी एवं राजेन्द्र स्वर्णकार आदि प्रस्तुतियां देंगे।

    लालाणी ने बताया कि विरासत संवर्द्धन संस्थान के तत्वावधान में महात्मा गांधी के जन्मदिवस पर लगातार दूसरे वर्ष इस प्रकार के मुशायरे का आयोजन हो रहा है। पिछले वर्ष भी गांधी जयंती के अवसर पर संस्थान द्वारा मुशायरे का आयोजन किया गया था, जिसे बीकानेर के संगीत व कलाप्रेमियों ने बहुत पसन्द किया था। उसकी अपार सफलता की अनुभूति से अभिभूत होकर इस गतिविधि को निरन्तर जारी रखने की मंशा बनी है।

    इस आयोजन में कामेश्वरप्रसाद सहल, भैरवप्रसाद कत्थक, सम्पतलाल दूगड़,, पुखराज शर्मा, जतनलाल दूगड़, हेमन्त डागा के साथ ही डॉ. मौहम्मद हुसैन, नीलम जैन, कन्हैयालाल बोथरा, जैन लूणकरण छाजेड़, सोहन चौधरी, इन्द्रचन्द कोचर तथा मोहन सुराना आदि कई सक्रिय कार्यकर्ता जुटे हुए हैं।

    अपना उत्तर दर्ज करें

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.